Binodilal Pacheriwala

Shri Binodilal Pacheriwala (CMD, Binayak Tex Pro. Ltd.)

Binodilal Pacheriwala

मुम्बई के सुप्रसिद्ध उधोगपति एवं समाजसेवीयों में एक श्री बिनोदीलाल पचेरीवाला का जन्म राजस्थान के एक छोटे से गाँव पचेरी, जो खेतड़ी-सिंधाना से 5 कि.मी. की दूरी पर है, में 31 अक्टूबर 1931 को श्री अर्जूनदासजी पचेरीवाला के घर में हुआ। एक मध्यम आय वर्ग परिवार में जन्म लेकर अपनी मेहनत, लगन और सुझबूझ से इन्होंने मुम्बई महानगर के सुप्रसिद्ध उधोगपति और समाजसेवी में अपनी एक ऐसी अमिट गहरी पहचान बनायी है, जिसके बिना आज राजस्थानी समाज अधूरा ही रहेगा। ये बचपन से ही कुछ खास करना चाहते थे, जिससे अपने पिताजी के सोंच पर खरा उतर सकें। पिताजी के सपनों को पूरा करने के लिए मुम्बई शहर इन्हें सबसे उचित स्थल लगा। इसी उम्मीद और सपनों के साथ 1952 में ये मुम्बई आ गये।

मुम्बई आकर इन्होंने ‘हनुमानदास मदनलाल’ के नाम से आढ़त की छोटी सी पेढ़ी के रूप में अपने व्यवसाय की शुरूआत किया। अपनी मेहनत, लगन तथा निष्ठा के साथ कार्य करते हुए ग्राहकों की संतुष्टि को सर्वोपरी माना। इसी का परिणाम है कि वर्षों बाद आज भी इस पेढ़ी को कालबादेवी मुम्बई से सर्वश्रेष्ठ पेढ़ीओं में गिनती होती है। कहावत है, ‘अवश्यकता अविष्कार की जननी है’। 1979 आते-आते इनके पेढ़ी का व्यापार इतना अधिक बढ़ गया कि अपने ग्राहकों की मांग की आपूर्ति उचित समय पर पूरा करने में ये असमर्थ से हो गये। इस कमी को समय पर पूरा करना भी आवश्यक था। समय पर ग्राहकों की मांग पूरा करने के लिए स्वयं का प्रिंटींग, डाईंग और ब्लीचिंग यूनिट की अत्यंत आवश्यकता आ खड़ी हुई। इस कारण इन्होंने उधोग जगत में कदम रखते हुए 1980 में ‘विमल डाईंग एण्ड प्रिंटींग मिल्स’ के नाम से मुम्बई से सटे थाणे जिला के डोंबिवली एम.आई.डी.सी. में अपनी पहली टेक्सटाईल प्रोसोसिंग मैन्यूफेक्चरिंग कम्पनी की शुरूआत किया। समयानुसार व्यवसाय आगे बढ़ने लगा, मांग के सामने उत्पादन कम पड़ने लगा। इस कमी को पूरा करने के लिए पुनः नई यूनिट की आवश्यकता पड़ने लगी। इस कमी को फिर से पूरा करने के लिए इन्होंने एक-एक कर ‘बिनायक टेक्स प्रोसेसर्स लि.’, ‘जिम टेक्स प्रईवेट लि.’, ‘एस.वी. बिजनेस प्राइवेट लि.’, ‘बिन्ट्री इंजिनियरिंग एण्ड केमिकल प्राइवेट लि.’ के नाम से चार यूनिट की स्थापना डोंबिवली एम.आई.डी.सी. में किया। इनमें से बिनायक टेक्स प्रोसेसर्स लि. मुम्बई स्टॉक में सूचीबद्ध है। साथ ही मुम्बई से सटे तारापूर में ‘वेलियंट ग्लास वर्क्स प्रा. लि.’ तथा ‘वेंकटेश सिंथ प्रोसेसर्स प्रा. लि.’ के नाम से दो यूनिटों की भी स्थापना किया। मेहनत, लगन और सुझबूझ के साथ कुशल करीगरों के सम्मिलित प्रयास से ये शीध्र ही व्यवसाय जगत के शीर्ष पर पहूंच गये।

समयानुसार इनके दोनों बेटे दिलीप पचेरीवाला तथा प्रदीप पचेरीवाला ने भी अपनी पढ़ाई पूरी कर इनके साथ करोबार में हाथ बटाने लगे। नई शिक्षा तथा व्यापार की नई तकनीक के साथ बच्चों ने करोबार को नया विस्तार दिया। व्यवसाय को घरेलू बाजार से आगे बढ़ाते हुए विदेशों में अमेरिका, अफ्रिका, जर्मनी व खाड़ी देशों तक विस्तार किया। इनके द्वारा एक्सपोर्ट किया गया माल आज इन देशों में बड़े ही शान के साथ बिक रहा है। वर्तमान में परिवार के तीसरी पीढ़ी का भी इनके व्यपार में आगमन हो चुका है।

व्यापारिक सफलता के शिखर पर विराजमान श्री बिनोदीलाल पचेरीवाला ने कभी भी समाजिक दायित्वों तथा पारिवारीक संस्कारों का दामन नहीं छोड़ा। व्यापारिक सफलता को जहां अपने इष्टदेव श्री सालासर हनुमान जी की कृपा बतलातें हैं, वहीं समाजिक कार्यों में सदैव अग्रिम पंक्ति में तन-मन-धन के साथ खड़े रहते है। आज के दौर में व्यक्ति अपने सामाजिक दायित्वों को जहां भूलकर अपने आप तक संकूचित होता जा रहा है, वहीं इन्होंनें अपने पिताजी से मिले संस्कारों को धरोहर की तरह जीवन भर संभालकर रखा है। कभी भी अपनी मर्यादाओं का उलंघन नहीं किया। सदा मधूर-वाणी से छोटे-बड़ों का सम्मान करना तथा जीवन के निर्धारित मूल्यों पर सदैव अमल करते आ रहें है। इनकी इसी सद्विचारों तथा कार्यों के कारण कई संस्थाओं के महत्वपूर्ण पदों पर इन्हें कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ है।

1978 में इन्होंने ‘हिन्दुस्तान चेम्बर ऑफ कॉमर्स’ की सदस्यता ग्रहण किया। वर्तमान में भी यह इसके कार्यकारणी कमिटी के सदस्य है। दो वर्ष तक ये इसके कोषाध्यक्ष भी रहे। ‘हिन्दुस्तान चेम्बर ऑफ कॉमर्स’ की ही एक सहायक संस्था ‘हिन्दुस्तान चेम्बर चिकित्सालय’ के अध्यक्ष पद पर रहते हुए इन्होंने दो वर्षों तक अपना बहुमूल्य योगदान किया। साथ ही अपने पिताजी के नाम पर ‘श्री अर्जूनदासजी पचेरीवाला सभागृह’ का निर्माण चेम्बर भवन में करवाये, जिसका उद्धाटन तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री वसंतदादाजी पाटील के हाथों से किया गया। ‘हिन्दुस्तान चेम्बर ऑफ कॉमर्स’ की एक ओर सहायक संस्था ‘मारवाड़ी कमर्शियल हाई स्कूल’ के सेक्रेट्ररी के रूप में भी इन्होंने कार्य किया। ‘परोपकार’ के संस्थापक सदस्य, ट्रस्टी के साथ ही आठ वर्षों तक उपाध्यक्ष के रूप में भी इनका कार्य काफी उलेख्यनीय तथा प्रशंसनीय रहा है। इसके माध्यम से कई सामाजिक तथा धार्मिक कार्यक्रमों में भाग लेकर इन्होंने अपना बहुमूल्य योगदान दिया है। साउथ मुम्बई की एक प्रमुख अवासीय संस्था ‘कफ परेड एसोसिएशन’ से भी ये जुड़े हुए है। अपने व्यस्त जीवन में रहते हुए सामाजिक संस्थाओं के कार्य के लिए सदैव पहले प्राथमिकता दी है। समाजिक कार्यों के प्रति समर्पण को देखते हुए इन्हे समाज रत्न सहित अनेक सम्मान प्राप्त हुआ है।


Biography

Basic Info…
Name: Binodilal Pacheriwala
Born: 31 October 1931
Age: 83 Years
Profession : Business

Family Member Info…
Father: Late Shri Arjundas Pacheriwala
Mother: Late. Smt. Emarati Devi

Wife: Smt. Bhagirathi Devi

Son:
• Mr. Dilip Pacheriwala
• Mr. Pradeep Pacheriwala

Daughter in Law:
• Smt. Bela Dilip Pacheriwala
• Smt. Neera Pradeep Pacheriwala

Daughter:
• Smt. Kiran Rajaraman Poddar
• Smt. Sarla Naresh Singhnodiya

Grand Children:
Vishal, Vineeta, Neha Ashish Ganeriwala, Vanshikha

Brothers:
• Late Shri Motilal Pacheriwala
• Shri Hari Pacheriwala
• Shri Gopi Pacheriwala

Organization …
• CMD, Binayak Tex Pro. Ltd.

Related Society & Trust …
Ex-President:
• Hindustan Chember Chikitsalya

Ex-Secretary:
• Marwari Commercial High School

Ex-Treasurer:
• Hindustan Chamber of Commerces

Trustee & Founder Member:
• Paropkar Trust, Mumbai

Committee Member:
• Hindustan Chamber of Commerces
• Cuff Pared Association, Mumbai

Related Location…
• Native : Pacheri, Near Khetri-Sindhana, Rajasthan, India
• Work Area : Mumbai, Maharastra, India

Get In Contact
Address: 384-M, Dabholkarwadi, 5th Floor, Kalbadevi Road, Mumbai, Maharashtra, Pin - 400 002 (India)

Tel: +91 - 022 - 40542222
Email:sales@vailiantindia.com


श्री बिनोदीलाल पचेरीवाला के जीवन के कुछ अनमोल यादगार पल की चित्रित झलकियाँ