Kedar Sharma

Pandit Dr. Kedar Sharma (Professor / Astrologer)

Kedar Sharma

जिंदगी की अनिश्चतताओं के बावजूद कुछ हुनरमंद और कुशल कीमियागर अपनी काबिलियत और पैनी निगाहों से निश्चित फल हासिल कर इतिहास के पन्नों पर सशक्त हस्ताक्षर बन जाते हैं। शायद आदम के वक्त से ही इंसानी दुनिया में शख्सीयतों का कद मापने का चलन चला आ रहा है, लेकिन सौभाग्य से हिन्दुस्तान के कुछ बेशकीमती रत्नों के सामने मापदंड की दुनिया बौनी पड़ जाती है। उस शख्सीयत के बारे में क्या कहेंगे, जिसने ज्योतिष, कुदरत, भूगोल और इंसानियत के बीच अद्भूत समीकरण का खाका खींच रखा हो? जिसकी बुलंदी आसमान तय करता हो, जिनकी निगाहें भविष्य के भीतर तक झांकने का मद्दा रखती हो, जिसकी जिंदगी परोपकार की सहचर हो, वह इंसान बेशक फरिश्ता ही मालुम होता है। हम जिक्र कर रहें है प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय ज्योतिषशास्त्री व वास्तुविद् पंडित डॉ. केदार शर्मा का, जिनका कद शायद समय ही बेहतर बताने की कूवत रखता है।

हिन्दुस्तान में ज्योतिष शास्त्र के एक नए युग की शुरूआत करने का श्रेय पंडित केदार शर्मा के नाम दर्ज है। इस क्षेत्र में उनका जितना बौद्धिक दखल है, वह अपने आप में बिरला है और कई पीढ़ियों का मार्गदर्शन करने की क्षमता रखता है। दूसरे ज्योतिषियों से हटकर उन्होंने ज्योतिष शास्त्र को अलग पहचान और आयाम दिए। उनकी भविष्यवाणियों की हिन्दुस्तान ही नहीं, सात समंदर पार अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी वगैरह तक कई नामी-गिरामी हस्तियाँ कायल हो चुकी है। इनमें राजनीतिज्ञ भी है, बॉलीवुड के मशहूर सितारे भी, उद्योग और कॉपोरेट जगत की हस्तियां भी। देश-विदेश की कई हस्तियाँ सलाह और आशीर्वाद लेने के लिए जयपुर में पंडित डॉ. केदार शर्मा के मानसरोवर स्थित निवास पर आती रहती है।

सीकर के कोटड़ी गाँव में सन् 1959 को जन्में पंडित डॉ. केदार शर्मा जयपुर के अग्रवाल कॉलेज में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर है। इनका ज्यादातर वक्त ज्योतिष शास्त्र की गणना में गुजरता है। पिता वैद्य श्री गोकुलचन्द्र शर्मा और माता श्रीमती बनारसी देवी के पांच पुत्रों में सबसे बड़े पंडित डॉ. केदार शर्मा बचपन से ही शाकम्भरी माता के उपासक है। ज्योतिष के प्रति उनका रूझान बचपन से ही था। स्कूल के दिनों में वह अपने सहपाठियों के बारे में भविष्यवाणियाँ किया करते थे कि परीक्षा में कौन पास और कौन फेल होने वाला है। भविष्यवाणियाँ सच होती रहीं और समय के साथ उनकी शोहरत में चार चाँद लगते गए। ज्योतिष शास्त्र से उन्हें जो कुछ हासिल हुआ है, उसे वह माता की देन मानते है। वह रोजाना चार-पाँच घंटे अपनी ईष्ट देवी की उपासना करते है और नवरात्री के नौ दिन सिर्फ उबले हुए पानी के सहारे रहते है। शायद इसीलिए उन्हें वह शक्ति हासिल है, जिसके जरिए वह सटीक भविष्यवाणियाँ कर पाते है। अर्थशास्त्र में पी.एच.डी. डॉ शर्मा की पत्नी श्रीमती उर्मिला शर्मा भी शिक्षा के मामले में समकक्ष (पी.एच.डी. अर्थशास्त्र) हैं। उनकी तीन संतान नेहा (बी-टेक), प्रीति (बी-टेक, एम.बी.ए.) और राहुल (बी-टेक, एम.बी.ए.), दमाद श्री शैलेन्द्र शर्मा (आई.आर.एस.) व श्री नितीन शर्मा (चार्टड ऑकाउंटेंट) तथा दोहिती सुश्री अनन्याश्री व दोहिता आर्यमन है।

पंडित डॉ. केदार शर्मा अपने कद्रदानों के बीच ‘गुरूजी’ के नाम से मशहूर है। इनकी हर वाणी अमृत समान है और जिनके आशिर्वाद से हर आम तथा खास खुद को धन्य महसूस करता है। कहा भी जाता है गुरू के बिना गति संभव नहीं होती। जिसको गुरू का आशिर्वाद मिल जाता है, वह तर जाता है, उसे सही मार्गदर्शन मिल जाता है। सदगुरू ईश्वर-प्राप्ति का सीधा और सरल रास्ता बताते है। इस रास्ते में कर्म-कांड, भारी विधि-विधान और ढकोसलों की कोई जगह नहीं है। पंडित केदार शर्मा भी सदगुरू की तरह जहाँ तक मन विचरण करता है, वहाँ तक परमात्मा का साक्षात्कार करा देते है। सभी क्रिया-कलापों के चलते स्थिर और संयत होना सीखा देते है। निर्भय, निरंतर आनंद में मग्न सभी भोगों के बीच वह जीवन-ज्योत की अलख जलाए रखते है।

कम्प्यूटर से लैस इक्कीसवीं सदी की दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो ज्योतिष शास्त्र पर भरोसा नहीं करते है। ऐसे कई लोगों को भी पंडित केदार शर्मा से मिलने के बाद अपनी अवधारणा बदलनी पड़ी। दरअसल ज्योतिष सिर्फ भाग्य बताने वाला खेल-तमाशा नहीं है। विज्ञान की तरह ज्योतिष भी नियमों के हिसाब से अपने सिद्धांत तय करता है। प्राचीन हिन्दुस्तान में परब्रह्म के ज्ञान को विज्ञान कहा जाता था। हमारा वह विज्ञान आधुनिक विज्ञान से कहीं ज्यादा व्यापक है। दोनों सत्य पर जोर देते है। जिस तरह वैज्ञानिक प्राकृति में निहित तथ्य और सत्य को सिद्धांत के तौर पर पेश करते है, उसी तरह ज्योतिष शास्त्र में भी नौ ग्रहों और 27 नक्षत्रों के भावों-प्रभावों के आधार पर निष्कर्ष निकाले जाते है। दूसरे शब्दों में ज्योतिष भी पूरी तरह विज्ञान-विधा है और इसके साथ साधना तथा अध्यात्म भी जुड़ा हुआ है, जो इसे समान्य विज्ञान से अलग करता है। ऐसे कई उदाहरण देखने को मिल जाएँगें कि जहाँ आधुनिक विज्ञान के पहिए थमने लगते है, वहाँ प्रर्थना, मंत्र, आशिर्वाद और अनुष्ठान इंसान के लिए संजीवनी का काम कर जाते है।

अगर आप ज्योतिष शास्त्र के वर्तमान से पुछें कि पंडित डॉ. केदार शर्मा कौन हैं, तो वह गंभीरता से बताएगा कि गुरूजी सिर्फ ज्योतिषी नहीं है, बल्कि उस सर्जनात्मक ज्योतिष-प्रवृति का पर्याय है, जिसकी जड़े हिन्दुस्तानी सभ्यता-संस्कृति में गहराई तक फैली हुई है। अनुभूति की प्रामाणिकता, व्यक्ति के माध्यम से समाज के व्यापक सत्य और अनावश्यक बड़बोलेपन को छोड़कर लोक की भाषा में जिंदगी की गहरी बात कहने का संकल्प पंडित केदार शर्मा के व्यक्तित्व में अकल्पनीय सादगी के साथ मौजूद है। उनके जीवन और ज्योतिष में प्राणमयता की बहुत बड़ी वजह उनका अक्षय मानव प्रेम और यह भरोसा है कि इस संसार में कोई भी अकेला नहीं है। हर व्यक्ति, चाहे वह आम हो या खास, अपने समाज, विराट प्रकृति और असीम ‘अखिल’ से जुड़ा है। वह अपनी जमीन से अंतरंग रूप से जुड़े है। अपना देशकाल, उसे आगे ले जाती हुई सम-सामयिकता, उसके सवाल, उसका बदलता माहौल और मौसम, यह सब आपको पंडित केदार शर्मा के ज्योतिष शास्त्र की भीतरी बुनावटों में नजर आएगा। यह सब उनकी दिव्य आत्मा की शीशे-सी साफ सच्चाईयाँ है। इसीलिए वह व्यक्ति को समाज से और समाज को ‘अखिल’ से जोड़कर देखते है।

उन्होनें साधना और आध्यात्म के जरिए ऐसी शक्ति हासिल की है कि उनकी हर भविष्यवाणी सच साबित होती है। कभी-कभी लगता है, जैसे उनके सामने कोई मायावी आईना है, जिसमें से उन्हें आने वाले कल की तस्वींरे नजर आ जाती है। सन् 1995-97 में जब बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन संकट के दौर से गुजर रहे थे, गुरूजी ने उन्हें बताया था कि संकट जल्द दूर होगा और वह पहले से ज्यादा लोकप्रियता हासिल करेंगे। सन् 2000 में अमेरिका दौरे के समय वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की जुड़वा इमारतें देखकर उन्होंने अपने शिष्यों से कहा था कि कल शायद यह इमारतें यहाँ नजर नहीं आएँ। कुछ ही महिनों बाद वह आतंकवादी हमले में दोनों इमारते ध्वस्त हो गई। राजस्थान विधान सभा चुनावों में भाजपा की हार के बाद भैरोंसिंह शेखावत को मुख्यमंत्री पद से हटना पड़ा था। तब गुरूजी ने बतलाया था कि उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर बड़ा सम्मानीय पद मिलने वाला है। कुछ समय बाद वह देश के उप-राष्ट्रपति बने। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पत्नी हेलरी क्लिंटन जब सीनेट चुनाव लड़ रहीं थी तो गुरूजी ने क्लिंटन को बता दिया था कि वह जीत जाएँगी। हेलरी की जीत के बाद क्लिंटन ने गुरूजी से मिलकर अपनी, हेलरी और बेटी चेलसी की जन्म पत्री बनवाई। इसी तरह अटलबिहारी वाजपेयी का प्रधानमंत्री बनना और कार्यकाल पूरा होने के पाश्चात् सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने, लालकृष्ण आडवाणी का कभी प्रधानमंत्री नहीं बनना तथा विवादास्पद नेता बनना, मायावती का उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनना तथा शक्तिशाली महिला नेता के रूप में उभरना, सोनिया गाँधी का प्रधानमंत्री न बनने के बावजूद प्रधानमंत्री से अधिक शक्तिशाली नेता के रूप में सत्ता चलाना आदि प्रमुख है।

पंडित डॉ. केदार शर्मा के लिए ज्योतिष शास्त्र किसी तरह का करोबार नहीं बल्कि साधना, समर्पण और समाज सेवा का माध्यम है। ज्योतिष को विशिष्ट योगदान के लिए उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। न्यूयार्क में हर तीन साल में एक बार राजस्थान एसोसिएशन ऑफ नार्थ अमेरिका (राना) का अंतरारष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जाता है। इसमें उन्हें लगातार दो बार सम्मानित किया जा चुका है। सन् 2003 में हुए सम्मेलन में तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गलहोत ने उन्हें सम्मानित किया, जबकि 2006 के सम्मेलन में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने। पंडित केदार शर्मा के कद्रदानों में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भी शामिल हैं, जिन्होंने हिलेरी क्लिंटन के बारे में की भविष्यवाणी के सच होने पर उन्हें विशेष रूप से अमेरिका आमंत्रित किया था। राजस्थान की पूर्व-मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे हर बड़े काम के श्रीगणेश से पहले इनसे ही सलाह लेती है।

गुरूजी के निवास पर अकसर विभिन्न क्षेत्रों के महान हस्तियों का जमघट लगा रहता है। राजनीति क्षेत्र से पूर्व राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटील, पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चन्द्रशेखर सिंह, उच्चतम न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश के.जी. बालकृष्णन, भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, कलराज मिश्र, पूर्व राजपाल बलराम जाखड़, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गलहोत, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, हिमाचाल के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, ओमप्रकाश चौटाला, भजनलाल आदि, सैन्य अधिकारी में पूर्व सेना प्रमुख वी.के. सिंह, पूर्व एयर चीफ मार्शल एस.पी. त्यागी आदि, औधोगिक घरानों और शीर्ष उद्योगपतियों में बिड़ला, मोरी, अदानी, मोरारका आदि, बॉलीवुड से अमिताभ बच्चन, मनोज कुमार, राज बब्बर, अजय देवगन, अक्षय खन्ना, जयाप्रदा, डिम्पल, अनुराधा पौडवाल, बाबा सहगल आदि प्रमुख भक्तों में शामिल है।


Biography

Basic Info…
Name : Pandit Dr. Kedar Sharma
Born : 08 / 08 / 1959
Education : Phd (Economice)
Profession : Professor / Astrologer

Family Member Info…
Father : Shri Gokulchand Sharma
Mother : Smt. Banarasi Devi

Wife : Dr. Urmila Sharma (PHD Economies)
Son : Rahul Sharma (B-Tec, MBA)

Daughter :
Smt. Neha S. Sharma (B-Tec)
Smt. Priti N. Sharma (B-Tec, MBA)

Grand Children:
Ananyashri, Aryaman

Awards
2003 & 2006 : Rajasthan Association of North America (RANA)

Get In Contact:
Add: 80/82, Madhyam Marg, Mansrovar, Jaipur, Rajasthan, Pin- 302020 (INDIA)

Tel: +91 -
Email:

Some Of His Prediction Which Came True Were:

National

√ Sonia Gandhi Will Not Become Prime Minister of India But Would Be More Powerful than Prime Minister

√ Manmohan Singh Will Be Able to Win no Confidence Motion. He Will Make A Comeback as Prime Minister

√ Rahul Gandhi Will Become Powerful in Congress. He is Future of the Party

√ Big B Amitabh Bachchan Will Stage A Grand Comeback On Silver Screen

√ Atalji Will Become Prime Minister. He Will Quit Politics After His Term

√ Advani Will Very Difficult Become Prime Minister. He Will Be a Controversial Leader

√ C. P. Joshi Lose Assembly Elections. But He Will Become Cabinet Minister In Centre

√ Narendra Modi Will Become Chief Minister of Gujarat

√ Farooq Abdullah Will Not Become Chief Minister of Jammu & Kashmir. Omar Abdullah Will Become Chief Minister of Jammu & Kashmir

√ Mayawati Will Emerge Powerful Chief Minister

√ Bhairon Singh Shekhawat Will Become Vice President

√ Pratibha Patil Will Attain The Highest Position

√ Rabri Devi Will Become Chief Minister Of Bihar

√ Ashok Gehlot Will Make Comeback as Chife Minister After Little Opposition. He Will Remain the Strongest Leader in State Congress

√ Mamta Banerjee Will Become the Chief Minister of West Bengal

√ Nitish Kumer Will Retain His Chief Ministership of Bihar

√ Jaya Lalita Will Become the Chief Minister of Tamil Nadu

√ India Will Be Win the Crictet World Cup



International

√ George Bush Junior Will Become President of the United States

√ Obama Will Become the President of United States

√ The Black Chapter Of Former Us President Bill Clinton.

√ Hillary Clinton Will Win the Senate Elections But Not Be Nominated for President's Post

√ Attack on Twine Tower in U.S.

√ Death of Osama



पंडित डॉ. केदार शर्मा के जीवन के कुछ अनमोल यादगार पल की चित्रित झलकियाँ