Paras Lunia

Mr. Paras Lunia (CMD, Lunia Brother’s, Mumbai)

Paras Lunia

देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई सदैव से ही लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती रही है। देश का हर प्रतिभावान युवा अपने सपने साकार करने मुम्बई आता है, और अपने मेहनत, लगन से व्यवसायिकता के शीर्ष पर सफलता का झंड़ा गाड़ देता है। इससे न सिर्फ उस व्यक्ति के परिवार का नाम रोशन होता है, बल्कि उससे उसका समाज, गाँव, शहर व देश भी गौरवांवित होता है। ऐसे ही एक संघर्षशील समाजसेवी युवा का नाम है पारसमलजी लुनिया।

राजस्थान के पाली जिला के चाचौड़ी गाँव में पिताजी स्व. श्री बख्तावरमलजी लुनिया तथा माताजी स्व. श्रीमती प्यारीबाईजी लुनिया के गृहस्थांगण में 1 अगस्त 1957 को पारसजी लुनिया का जन्म हुआ। चार भाई-बहनों में सबसे छोटे पारसजी लुनिया का बचपन बड़े ही लाड़-प्यार में गुजरा। प्रारंभिक से लेकर मैट्रीक की शिक्षा गाँव में ही हुआ। तत्पाश्चात् वे मुम्बई आ गये और अपने भाइयों के साथ व्यापार में हाथ बंटाने लगे।

पारसजी लुनिया ने मुम्बई में व्यवसायिक गतिविधी की शुरूआत भाईयों द्वारा स्थापित “शर्ट कॉलर मैन्युफेक्चरींग” व्यवसाय से किया। शीध्र ही उनका रूझान पिताजी द्वारा संचालित फोल्डिंग छाते के मैन्युफेक्चरींग व्यवसाय में हो गया। पिताजी के साथ मिलकर उन्होंने फोल्ड़िंग छाते के छोटे से मैन्युफेक्चरींग व्यवसाय को बढ़ाकर पूरे देश में फैलाया। उनकी मेहनत, लग्न, ईमानदारी के साथ-साथ ऊँच गुणवतता के कारण देखते ही देखते उनके द्वारा निर्मित छाते “राजहंस” के नाम से पुरे देश का जाना-माना भरोसेमंद ब्रांड बन गया। सन् 1991 में सभी भाईयों से अलग होने के बाद भी पारसजी लुनिया ने अपने पैतृक व्यवसाय को नहीं छोड़ा। वे “लुनिया ब्रदर्स” के नाम से ही छाते के व्यावसाय करते रहे तथा व्यावसाय को नित्य नई ऊँचाईयों तक पहुंचाने का काम करते रहे। वर्ष 2002 से उनके पुत्र अमित लुनिया इस काम में उनका हाथ बंटा रहे है।

पारसजी लुनिया व्यावसायिक सफलता के साथ-साथ सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक आदि विविध कार्यों में समय-समय पर अपना अहम् योगदान करते रहते है। इन कार्यों में उनकी रूची बचपन में ही जाग्रृत हो गई थी। मुम्बई आने से पूर्व ही राजस्थान के पाली में एक बाइक दूर्घटना ने उन्हें राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के बेहद करीब ला दिया। उस दूर्घटना के दौरान लुनियाजी का राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पाली जिला के तात्कालीन प्रभारी व प्रचारक ओमप्रकाशजी माथुर से सम्पर्क बना। इस दौरान पारसजी लुनिया उनके कार्यों तथा संघ के विचारों को बेहद करीब से जाना। मुम्बई आने के बाद लुनियाजी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुम्बादेवी शाखा में नियमित रूप से जाने लगे। इस दौरान यहाँ इनकी मुलाकात विश्व हिन्दू परिषद के कई वरिष्ठ नेताओं के साथ हुआ।

सन् 1980 में भारतीय जनता पार्टी के गठन के पाश्चात् लुनियाजी को मुम्बादेवी विधानसभा क्षेत्र का कोषाध्यक्ष बनाया गया। भारतीय जनता पार्टी का अखिल भारतवर्षीय अधिवेशन, मुम्बई के दौरान इन्होंने सहयोगियों के साथ मिलकर गिरगाँव स्थित बिरला क्रीड़ा केन्द्र में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के लिये एक विशाल सहभोज का आयोजन किया। इस आयोजन में अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी सहित भारतीय जनता पार्टी के लगभग सभी वरिष्ठ नेता उपस्थित थे। इस सफल आयोजन ने उन्हें पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों के बेहद करीब ला दिया। राजस्थान के तात्कालीन मुख्यमंत्री स्व. श्री भैरोसिंह शेखावत, पर्यटन मंत्री पुष्पाजी, पाली के सासंद गुमानमलजी लोढ़ा, मुम्बई के तात्कालीन नगरसेवक राज के. पुरोहित सहित कई नेताओं के साथ लुनियाजी के प्रगाढ़ संबंध बन गये।

समयानुसार भाजपा के कई और वरिष्ठ नेताओं को साथ भी लुनियाजी के प्रगाढ़ सम्बंध बनते गये। उनके साथ आज भी इनके घनिष्ठ संबंध कायम है। स्व. भैरव सिंह शेखावत के उपराष्ट्रपति बनने के बाद भी उनके साथ इनके बेहद करीबी संबंध रहे और मुम्बई प्रवास के दौरान वे सदैव इनके साथ मुलाकात करते थे। मुम्बई कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भंवरसिंह राजपुरोहित के साथ इनके मित्रता के संबंध है। लुनियाजी के सभी राजनैतिक सम्बंध सामाजिक एवं विकास कार्यों से प्रेरित रहे है।

मुम्बई में रहते हुए लुनियाजी ने अपने जन्मस्थली को कभी भूला न सके। गाँव के जरूरतमंदों की यथासंभव सदैव मदद करते रहते है। गरीबों को ठंढ़ से बचाने के लिये कंबल, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये सिलाई मशीन, छात्रों को पाठ्य साम्रगी व पोशाक आदि वितरण करने के साथ ही राजस्थान सरकार के तात्कालीन स्वास्थ मंत्री से अनुरोध कर चाचौड़ी गाँव में आयुर्वेदिक अस्पताल का निर्माण करवाने में लुनियाजी ने अपना अहम योगदान दिया। श्री मरूधर जैन नवयुवक मंड़ल, मुम्बई के नेतृत्व में लुनियाजी ने 13 सितम्बर 2003 को राजस्थान के पाली जिला के वरकाना गाँव में एक विशाल स्वास्थ शिविर का आयोजन किया। उस आयोजन के मुख्य अतिथि राजस्थान के तात्कालीन गर्वनर निर्मलचंदजी जैन थे। उस शिविर में रक्त जाँच शिविर, नेत्र जाँच शिविर, पोलियों ऑपरेशन सहित विविध स्वास्थ सेवाओं का हजारों लोगों ने लाभ लिया। उस स्वास्थ शिविर में लोगों के साथ-साथ पशुओं के लिये भी एक विशेष शिविर का आयोजन था। जिसमें हजारों बेजुबान जानवरों का भी इलाज किया गया। ऐसा भव्य आयोजन एक छोटे से गाँव में करना लुनियाजी के नेतृत्व व संगठन कौशल को दर्शाता है।

सामाजिक कार्यों के साथ-साथ लुनियाजी विविध धार्मिक आयोजनों में भरपूर सहयोग करते रहें है। इन कार्यों में लुनियाजी की अध्यक्षता तथा श्री मरूधर जैन नवयुवक मंड़ल, मुम्बई के नेतृत्व में समेद शिखर की स्पेशल यात्रा का सफल आयोजन विशेष उलेख्यनीय है। इस यात्रा को सफल बनाने के लिये मुम्बई से समेद शिखर तक एक स्पेशल ट्रेन की विशेष व्यवस्था की गई थी जिसमें शहर के प्रतिष्ठित हजारों लोगों ने धार्मिक यात्रा का लाभ उठाया।

पारसजी लुनिया “श्री मरूधर जैन नवयुवक मंड़ल” के संस्थापक सदस्य सह पूर्व अध्यक्ष सहित “स्वामी विवेकानंद स्मृति मंदिर, चाचौड़ी (राजस्थान)” एवं “श्री वरकाना विद्यालय भूतपूर्व छात्र संघ” के उपाध्यक्ष, “साहित्य कला मंच, मुम्बई” के उपमहासचिव, “श्री वरकाना देवस्थानक पेढ़ी (राजस्थान)” एवं “श्री गोडवाल ओस्तवाल जैन संघ, मुम्बई” के पूर्व ट्रस्टी, “श्री मरूधर महिला शिक्षण संघ, विद्यावाड़ी (राजस्थान), “श्री पार्श्वनाथ जैन विद्यालय, वरकाना (राजस्थान)”, “श्री पार्श्वनाथ जैन संघ, चाचौड़ी (राजस्थान)”, “उड़ान, मुम्बई” के सदस्य, “द अंब्रेला मैन्युफेक्चरिंग एण्ड ट्रेडर्स एसोसिएशन, मुम्बई”, “जैन फूलवाड़ी, मुम्बई”, “मरीन लाईन लॉयन क्लब, मुम्बई”, “राजस्थान सेवा परिषद, मुम्बई” के पूर्व सदस्य रह चुके है। “श्री मरूधर महिला मंडल, मुम्बई” की स्थापना लुनियाजी के नेतृत्व में ही किया गया, जो आज जैन समाज की महिलाओं की एक प्रमुख संस्था के रूप में जानी जाती है।


Biography

Basic Info…
Name: Paras Lunia
Born: 01 August 1957
Education: S.S.C.
Profession: Business

Family Member Info…
Father: Late Shri Bhaktawarmal Ji Lunia
Mother: Late Smt. Pyaribai Ji Lunia

Wife: Smt. Gunwanti Lunia

Son & Daughter In Law:
Mr. Amit – Alka Lunia

Daughter & Son in Law:
Smt. Amita – Manoj Ji Mehta

Grand Children:
Vinni Lunia, Prisha Lunia, Anusha Mehta

Organization …
• Lunia Brother’s, Mumbai
• Vanniji Duliji & Co., Mumbai

Related Society & Trust …
Ex-President:
• Shri Marudhar Jain Navyuvak Mandal, Mumbai

Vice-President:
• Swami Vivekananda Smruti Mandir, Chanchodi, Rajasthan
• Shri Varkana Vidyalaya Bhutpura Chhatra Sangh

Ex-Vice-Secretary:
• Sahitya Kala Munch, Mumbai

Ex-Trustee:
• Shri Varkana Devsthank Pedhi, Rajasthan
• Shri Godwal Ostwal Jain Sangh, Mumbai

Member:
• Shri Marudhar Mahila Kshikshan Sangh, Vidyawadi, Rajasthan
• Shri Parshwanath Jain Vidyalaya, Varkana, Rajasthan
• Shri Parshwanath Jain Sangh, Chanchodi, Rajasthan
• Udan, Mumbai

Ex-Member:
• The Umbrella Manufacturing & Traders Association, Mumbai
• Marin Line Lions Club, Mumbai
• Rajasthan Seva Parishad, Mumbai
• Jain Phoolwadi, Mumbai

Related Location…
• Birth: Chanchodi, Dist-Pali, Raj., India
• Education: Chanchodi, Dist-Pali, Raj., India
• Work Area: Mumbai, Maharashtra, India

Get In Contact
Address : 72-78, Princess Street, Chapsey Bldg., 1st Floor, Mumbai – 400002

Tel : +91-9819336621
Email: amitlunia@hotmail.com


श्री पारसजी लुनिया के जीवन के कुछ अनमोल यादगार पल की चित्रित झलकियाँ