श्री जीणमाता प्रचार मंडल, मुम्बई के 8वाँ वार्षिक महोत्सव की चित्रित झलकियाँ

श्री जीणमाता प्रचार मंडल मुम्बई द्वारा नवरात्री के पावन पर्व पर अष्टम वार्षिकोत्सव का भव्य आयोजन एफ.एम. बैंक्वेट हॉल, गोरेगाँव (प.) में आयोजित किया गया। यजमान व ट्रस्टी श्री सुरेश खंडेलिया व श्री राजू अग्रवाल द्वारा विधी-विधान और मंत्रोचार से पूजा के साथ उत्सव का शुरूआत हुई। दोपहर से ही माता के दर्शन के लिए लम्बी-लम्बी कतारें लगी हुई थी। इस अवसर पर कल्याण, विरार, भिवंडी, थाना, भायंदर, दक्षिण मुम्बई एवं उपनगर के हजारों जीण भक्त पधारे थे। मंगला पुरोहित के साथ उनकी सहयोगियों ने संगीतमय मंगल पाठ की प्रस्तुति की, जिसमें सभी भक्तगण झूम उठे। कोलकता से आये कलाकारों द्वारा मातजी की जीवनी पर नृत्यनाटिका प्रस्तुत की गई, जिसकी सभी भक्तों ने सराहना की। माताजी का जन्म उत्सव, मेंहदी उत्सव, चुनड़ी उत्सव आदि की लाजवाब प्रस्तुति पर उपस्थित हजारों भक्तगणों ने नाच-गाकर उत्सव मनाया। भाई-बहन के मार्मिक सजीव चित्रण पर भक्तों की आँखों में आँसू आ गये। माता के जयकारों से हॉल गूंज उठा व सारा वातावरण भक्तिमय हो गया।
अध्यक्ष व ट्रस्टी श्री नरेन्द्र गुप्ता ने बताया कि माताजी की नयनाभिराम झांकी सबके आकर्षण का केन्द्र थी। अखण्ड ज्योत, छप्पन-भोग एवं महाप्रसाद का विशेष आयोजन किया गया था। महिलाओं को आशीर्वाद स्वरूप बधाई का वितरण किया गया। कोलकत्ता से आये सुप्रसिद्ध भजन गायक नवीन जोशी एण्ड पार्टी ने सुमधुर भजनों की अमृत वर्षा की जिसमें सभी भक्तों ने गोता लगाया। राजू खंडेलवाल और दीपमाला ने भी भजनों की प्रस्तुति दी। ट्रस्टी व महासचिव विजय डोकानिया ने जानकारी दी कि प्रवासी राजस्थानी समाज की कुलदेवी श्री जीणमाता के हजारों की संख्या में भक्त मुम्बई में रहते है। श्री जीण माता के प्रचार-प्रसार हेतु मलाड में साई दर्शन मंदिर परिसर में भव्य मंदिर का निर्माण कराया गया, जिसमें मुम्बई के भक्तगम दर्शन एवं पूजा का लाभ ले सके। हर माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मंदिर परिसर में मंगल-पाठ व भजन संध्या को आयोजन होता है। अतिशीध्र ही भायंदर में भी जीणमाता की प्राणप्रतिष्ठा होनेवाली है। कार्यक्रम में 4 विकलांगों को ट्राईसाइकल दी गई। ट्रस्टी सी.ए. विष्णु अग्रवाल का डब्लू.आई.आर.सी. चेयरमैन चुने जाने पर मंडल की तरफ से अभिनंदन किया गया। माता की दरबार में विशेष रूप से गणपत कोठारी, रामविलास हुरकट, किशोर खाबिया जैन, राजेन्द्र तुलस्यान, शांति चतुर्वेदी, राजेन्द्र अग्रवाल, नंदू सेक्सरिया, श्याम नाथ शर्मा, नरेन्द्र खेतान, इंन्द्रजीत गोयनका आदि गणमान्य लोग एवं पत्रकार बंधू उपस्थित थे। ट्रस्टी व मुख्य संरक्षक नन्दू अग्रवाल, प्रमोद सांगनेरिया, प्रवीण मुकिम, मुकेश डोकानिया, शंकर मित्तल, सी.ए. विष्णु अग्रवाल, रमेशचंद अग्रवाल, सांवलचंद अग्रवाल, प्रकाशचंद अग्रवाल सहित सभी सदस्यों का विशेष योगदान रहा। महाप्रसाद और आरती के साथ उत्सव का समापन हुआ।