श्रीहरि सत्संग समिति, मुम्बई द्वारा प्रशिक्षित वनवासी कन्या परम पूज्य किशोरी श्रीप्रियाजी की मधुरवाणी में श्रीमद्भागवत् कथा की चित्रित झलकियाँ

भारत के सुदूर ग्राम, अंचलों तथा वन क्षेत्रों में निवास करने वाले वनवासियों में संस्कार, शिक्षा तथा स्वावलम्बन को समर्पित श्रीहरि सत्संग समिति, मुम्बई द्वारा प्रशिक्षित वनवासी कन्या परम पूज्य किशोरी श्रीप्रियाजी (सिक्किम निवासी) की मधुरवाणी से 7 जनवरी से 13 जनवरी 2016 तक श्रीमद्भागवत कथा का मुम्बई में प्रथम बार आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम का शुभारंभ 7 जनवरी को परम पूज्य आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी श्री विद्यानंदजी सरस्वती के हाथों दीप प्रज्जवलन कर हुआ। व्यासपीठ पर विराजमान साध्वी किशोरी श्रीप्रिया जी मुम्बई मे पहली बार भव्यता के साथ अपनी मधुरवाणी में श्रीमद्भागवत कथा का रसास्वादन मुम्बईवासियों को करवा रहीं है। परम पूज्य किशोरी श्रीप्रिया जी, जो कि श्रीहरि सत्संग समिति (सिक्किम) की एक सक्रिय सदस्या है। सन् 2013 में 17 वर्ष की आयु में श्रीहरि सत्संग समिति की कथाकार योजना से जुड़ी एवं नवदीप, कोलकता से प्राथमिक शिक्षा पूर्ण की। उन्होंने भागवत की मुख्य शिक्षा वृंदावन केन्द्र से प्राप्त की। कार्यक्रम में मुख्य यजमान, दैनिक यजमान सहित संस्था के सभी प्रमुख पदाधिकारी उपस्थित थे।