कई प्रमुख सामाजिक संस्थाओं के आधार स्तंभ, विनम्र स्वभाव के धनी श्री देवकीनंदन बूबना का निधन

मुम्बई सहित देशभर के कपड़ा व्यवसाय तथा कई प्रमुख सामाजिक संस्थाओं के आधार स्तंभ, विनम्र स्वभाव के धनी श्री देवकीनंदन बूबना का निधन 16 अक्टूबर 2017 को मुम्बई स्थित उनके आवास पर हो गया। उनके निधन के खबर सुनते ही कपड़ा व्यापार जगत सहित मुम्बई के लगभग सभी सामाजिक, आध्यात्मिक, शैक्षणिक व चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े विभिन्न संस्थाओं में शोक की लहर दौड़ गई।
मुलतः राजस्थान के फतेहपुर शेखावटी के निवासी श्री देवकीनंदन जी बूबना का जन्म 15 अप्रैल 1933 को हुआ था। पढ़ाई के साथ-साथ वह अपने पुश्तैनी कपड़ा व्यवसाय में परिवार के साथ हाथ बंटाने लगे थे। उनके कपड़े का पुश्तैनी व्यवसाय को मुम्बई की आढ़त मंड़ी का सबसे पुरानी आढ़तों में से एक होने का गौरव प्राप्त था।
जैसा कि सबको ज्ञात है मुम्बई कुछ समय पूर्व तक टेक्सटाईल मार्केट का प्रमुख मंड़ी था तथा देश के हर भाग से व्यापारी यहाँ आते थे। उन व्यापारियों को मुम्बई आने पर बड़े व्यापारी अपने यहाँ ठहरने, खाने-पीने की समुचित व्यवस्था निःशुल्क किया करते थे। इस कार्य में उनका पुरा परिवार व फर्म का नाम, सम्मानीय व सर्वश्रेष्ठ था। आपके परिवार की ओर से भूलेश्वर का एक पूरा मकान उऩ लोगों के लिए सदैव सुरक्षित रखा रहता था, जिसमें जरूरत की हर सुख-सुविधा निःशुल्क उपलब्ध थी।
एक ओर जहाँ आप मुम्बई कपड़ा बाजार के स्वर्णिम काल के हमसफर रह चुके हैं, वहीं विभिन्न सामाजिक, आध्यात्मिक, शैक्षणिक व चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े विभिन्न संस्थाओं के साथ प्रमुख आधार स्तंभ की तरह जुड़कर पुरखों द्वारा संचालित निःस्वार्थ व जनोपयोगी कार्यों के वटवृक्ष को भरपूर सींचने का कार्य किया। श्री हरि सत्संग समिति मुम्बई, परमार्थ सेवा समिति मुम्बई, साहित्य कलामंच, हिन्दुस्तान चेम्बर ऑफ कॉमर्स आदि अनेक प्रमुख संस्थाओं के साथ आप सक्रिय रूप से जुड़े रहें।
उनके पुत्र श्री दीपक बूबना ने बतलाया कि शारीरिक रूप से काफी अस्वस्थ्य होने के वजह से पिछले कुछ माह से वे सार्वजनिक जीवन से लगभग दूर रहा करते थे। फिर भी सभी सामाजिक दायित्वों को यथासंभव आगे बढ़ाने के लिये हमें प्रेरित करते रहे। उनके मार्गदर्शन में हमारे परिवार द्वारा यथासंभव उसे आगे बढ़ाने के लिये प्रयासरत है।
स्थानीय विधायक श्री राज के पुरोहित, हिन्दुस्तान चेम्बर ऑफ कॉमर्स के पूर्व श्री उत्तम वी जैन, श्री हरि सत्संग समिति के संरक्षक श्री स्वरूपचंद गोयल, परमार्थ सेवा समिति के संस्थापक श्री लक्ष्मीनारायण बियाणी, परोपकार के संस्थापक व ट्रस्टी श्री शंकर केजरीवाल, जनता की पुकार के अध्यक्ष श्री कैलाश अग्रवाल, अग्रबंधू सेवा समिति के ट्रस्टी श्री कानबिहारी अग्रवाल, श्री जीणमाता प्रचार मंडल, मुम्बई तथा राजस्थानी सेवा संस्था, भायंदर के अध्यक्ष श्री नरेन्द्र गुप्ता, सी.ए. श्री विमल पुनमिया, महाराष्ट्र प्रदेश कॉग्रेस कमिटी की जेनरल सेक्रेट्री श्रीमती सुमन अग्रवाल, इंड़ो-अमेरिकन सोसाइटी के पूर्व सेक्रेट्री जनरल श्रीमती किरण कामत, पिकेट रोड़ हनुमान मंदिर, कालबादेवी की ट्रस्टी श्रीमती रानी महंत, दिग्गी पोर्ट के पूर्व डायरेक्टर श्री महेन्द्र कलंत्री सहित अनेक गणमान्य लोगों ने श्री देवकीनंदन बूबना के निधन पर अपनी गहरी संवेदनाएँ व्यक्त किये।


दीपावली पर्व के उपलक्ष्य में दिव्यांगों को विभिन्न प्रकार के खाद्य-सामग्री के पैकेट का वितरण सम्पन्न


अग्रबंधू सेवा समिति, मुम्बई के तत्वाधान में महादेवी परमेश्वरीदास जिंदल चेरिटेबल ट्रस्ट मुम्बई के सौजन्य से दिपावली पर्व के उपलक्ष्य में श्री मनमोहन गुप्ता (राष्ट्रीय अध्यक्ष, गाँधी विचार मंच), श्री गोपालदास गोयल (कोषाध्यक्ष, अग्रबंधू सेवा समिति) की अध्यक्षता, श्री ललित बगड़िया एवं धर्मपत्नी (उद्योगपति व समाजसेवी) के सानिध्य, ट्रस्टी श्री कानबिहारी अग्रवाल के संचालन में सुगम अपंग संस्था की अध्यक्षा श्रीमती सुमित शिंदे की उपस्थिति में लगभग 250 दिव्यांगोंको विभिन्न प्रकार की खाद्य-सामग्री के पैकेट श्री साई मंदिर ट्रस्ट, मलाड़ शॉपिंग सेन्टर, मलाड़ (वेस्ट) में ट्रस्टी श्री नरेन्द्र खेतान एवं ट्रस्टी श्री कन्हैयालाल जी द्वारा की गई व्यवस्था में सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ।
इस अवसर पर समाज व विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी श्री ओमप्रकाश गोयनका, श्री बाबूलाल अग्रवाल, श्री हरीश जलान, श्री विजय गुप्ता, श्री बी. के. अग्रवाल, श्री रतन अग्रवाल, श्री जे. पी. सिंह आ उपस्थित होकर आयोजकों का उत्साहवर्धन कर संस्था द्वारा किये जा रहे जनोपयोगी कार्यक्रमों की सराहना की। अंत में सभी उपस्थितों का श्री साई दर्शन मंदिर ट्रस्ट व पदाधिकारियों तथा उपस्थित दिव्यांगों का आभार व्यक्त किया। उपरोक्त जानकारी संस्था के मानद मंत्री श्री उदेश अग्रवाल एवं संयुक्तमंत्री श्री अनिल आर. अग्रवाल ने दी।


दक्षिण मुंबई स्थित सबसे पुराने जैन तीर्थ गोड़ीजी परिसर में आयोजित जैन महिला ट्रेड फेयर को मिला जबरदस्त प्रतिसाद


दक्षिण मुंबई स्थित सबसे पुराने जैन तीर्थ गोड़ीजी परिसर में राष्ट्रसंत आचार्य चंद्रानन सागर सूरीश्वर महाराज के चातुर्मास स्थल पर साध्वीश्री कल्पिताश्रीजी एवं चारुताश्रीजी की निश्रा में आयोजित इस ट्रेड फेयर का उदघाटन जानी मानी लेखिका एवं समाजसेवी श्रीमती मंजू लोढ़ा के हाथों संपन्न हुआ। गोड़ीजी तीर्थ के इतिहास में पहली बार आयोजित व्यवसाय से जुड़ी जैन महिलाओं के इस ट्रेड फेयर को जबरदस्त प्रतिसाद मिला।
जैन समाज की सामान्य घरेलू महिलाओं के व्यापारिक क्षेत्र मेंं बहुत तेजी से कदम बढ़ाने को एक नया बदलाव बताते हुए श्रीमती मंजू लोढ़ा ने कहा कि यह सब साध्वीजी की अभिनव पहल पर हो रहा है, जो सराहनीय प्रयास है। उदघाटन अवसर पर राष्ट्रसंत आचार्य चंद्रानन सागर सूरीश्वर महाराज भी विशेष रूप से पधारे थे। इस दो दिवसीय महिला ट्रेड फेयर में करीब तीन हजार से भी ज्यादा महिलाओं ने भाग लिया। ट्रेड फेयर में मुंबई के कई इलाकों से जैन महिलाएं एवं महिला जैन संघों की सदस्याएं अपने द्वारा निर्मित एवं जरूरत के विभिन्न सामानों की बिक्री के लिए आई थीं। इन सामानों की खरीद के लिए दो दिन में कुल 3 हजार से भी ज्यादा महिलाएं आईं। महिलाओं द्वारा आयोजित ट्रेड फेयर में महिलाओं के लिए महिलाओं द्वारा निर्मित और महिलाओं द्वारा ही खरीदे जाने की यह अभिनव व्यापारिक अवधारणा अपने आप में एक सफल प्रयास रहा। साध्वीश्री कल्पिताश्रीजी एवं चारुताश्रीजीने सभी सहभागियों को इसकी सफलता का श्रेय दिया है।


मारवाड़ी जनकल्याण परिषद,भायंदर द्वारा दीपावली के उपलक्ष में 125 दिव्यांगों को खाध सामग्री का वितरण


मारवाड़ी जनकल्याण परिषद,भायंदर द्वारा दीपावली के उपलक्ष में 125 दिव्यांगों को खाध सामग्री का वितरण ओस्तवाल ओरनेट बिल्डिंग परिसर,जैसलपार्क,भायंदर पूर्व में किया गया।मुख्य अतिथि महापौर डिंपल मेहता, अध्यक्ष नरेन्द्र गुप्ता,सभाग्रह नेता रोहिदास पाटिल,नगरसेविका शानु गोहिल,मदन सिंह, मीना कांगने,समाजसेवी मनोज अग्रवाल,ओमप्रकाश कावड़िया,मीना कांगने,सचिव संदीप सराफ,कोषाध्यक्ष शिवकुमार जोगानी, महावीर प्रसाद शर्मा,प्रदीप गर्ग,जयप्रकाश गुप्ता,सुशील टिबड़ेवाल,भरत अग्रवाल,विमल अग्रवाल,विजय पारीक,जोरावरसिंह गोहिल,मनोज मोदी,मनोज खेमका,सुभाष चूड़ीवाल इत्यादि गणमान्य उपस्थित थे। अध्यक्ष ने कार्यक्रम की सफलता के लिए कार्यकारिणी सदस्यों को बधाई दी।


श्रीमती मंजू लोढा द्वारा आयोजित साहित्य विमर्श में गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने कहा - साहित्यकार, कवि और लेखक समाज के पहरेदार


मुंबई। गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने कहा है कि साहित्य का सामाजिक परिवर्तन से बहुत गहरा नाता है, वे समाज के पहरेदार हैं। इसलिए लेखकों और साहित्यकारों को सामाजिक विकास और समन्वय के नज़रिए को केंद्र में रखकर अपना सृजन करना चाहिए। श्रीमती सिन्हा 'परमवीर' की लेखिका श्रीमती मंजू लोढा द्वारा आयोजित साहित्य विमर्श में आये लेखकों और साहित्यकारों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि हर तरह के लेखन में सामाजिक जिम्मेदारी सबसे अनिवार्य है।
मुम्बई में महिलाओं की एकमात्र साहित्यिक संस्था 'ज्ञान गंगोत्री' की संसथापक श्रीमती मंजू लोढा के आवास पर आयोजित इस साहित्य विमर्श में राज्यपाल श्रीमती सिन्हा विशेष रूप से महिला लेखिकाओं और कवियत्रियों से मिलने आई थीं। राज्यपाल श्रीमती सिन्हा को इस अवसर पर श्रीमती लोढा ने अपनी लिखी देशभक्ति, राष्ट्रप्रेम एवं वीरों के शौर्य सहित विभिन्न विषयों पर लिखी पुस्तकें भेंट की। राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने कहा कि श्रीमती लोढा की ये पुस्तकें नई पीढ़ी के मन में देश के लिए अपने जीवन का उत्सर्ग करनेवाले शहीदों एवं देशभक्तों के प्रति सम्मान पैदा करेंगी।
राज्यपाल सिन्हा के साथ साहित्य विमर्श में शचीन्द्र त्रिपाठी, कन्हैयालाल खंडेलवाल, राहुल भाई, निर्मला दोशी, रेखा बबल, सुमन सारस्वत, मालती जैन, सुमित केसवानी, अलका अग्रवाल, संगीता जैन एवं मंजू शाह सहित हिंदी कविता एवं लेखन से संबद्ध कई प्रमुख लोग उपस्थित थे। इस साहित्य विमर्श में महिलाओं की साहित्यिक संस्था 'ज्ञान गंगोत्री' की कई सदस्याएं भी उपस्थित थीं। राज्यपाल श्रीमती सिन्हा ने मुंबई जैसे व्यावसायिक एवं व्यस्त जीवनशैली वाले शहर में भी महिलाओं के इतनी बड़ी संख्या में साहित्य और लेखन से जुड़े रहने को समाज के लिए सुखद भविष्य का संकेत बताया।


जनता की पुकार द्वारा आयोजित 39 वाँ अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन 2017 सम्पन्न


मुम्बई की प्रमुख समाजिक व साहित्यिक संस्था जनता की पुकार द्वारा विजयादशमी के अवसर पर गिरगाँव चौपाटी मुम्बई पर निर्मित लालबहादुर शास्त्री नगर में 39 वाँ अखिल भारतीय कवि सम्मेलन भारी जोश और उत्साह के साथ सम्पन्न हुआ। संस्थाध्यक्ष श्री कैलाश अग्रवाल ने बतलाया कि यह संस्था हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी अपने सामाजिक दायित्वों को निभाते हुए स्व. श्री अशोक सिंघल की स्मृति में मुम्बई के सायन कोलीवाड़ा स्थित हनुमान टेकड़ी में कैन्सर पीड़ित परिवारों के लिए निवास की व्यवस्था हेतु बन रहे सेवा सदन के निर्माण में 39 लाख रूपये का सहयोग प्रदान किया है। इस अवसर पर श्री अशोक सिंघल की स्मृति में बन रहे सेवा सदन प्रोजेक्ट के प्रमुख श्री देवकीनंदनजी जिंदल एवं श्री संजय लोढ़ा विशेष रूप से उपस्थित थे। कवि सम्मेलन कार्यक्रम के उद्घाटन जनता की पुकार के संस्थापक श्री स्वरूपचंद गोयल, सर्वश्री सत्यनारायण काबरा (श्रीहरि के राष्ट्रीय अध्यक्ष), श्री देशबन्धु कागजी, श्री बिनोदीलाल पचेरिवाल, श्री विनोद लाठ (श्रीहरि मुंबई के अध्यक्ष) आदि ने दीप प्रज्वलन किया।
देश के प्रमुख कविगणों ने अपनी ओजस्वी वाणी से कार्यक्रम में समा बांध दिया। सायं ६ बजे प्रारम्भ होकर रात्रि १० बजे तक चलनेवाले इस कवि सम्मेलन का हजारों श्रोताओं ने आनन्द उठाया। इसी अवसर पर कवि सम्मेलन के संयोजक श्री मंगलप्रभात लोढ़ा (विधायक) ने जनता की पुकार के संस्थापक श्री स्वरूपचंद गोयल का ९० वर्ष के होने पर भावपूर्ण स्वागत किया। साथ रूग्णसेवा सदन में प्रमुख योगदान देनेवाले दानदाताओंका भव्य सार्वजनिक स्वागत किया गया। सर्वश्री गोविन्द सराफ, किशन बाजोरिया, कृष्णकुमार नेमानी, कैलाश अग्रवाल, सहस्त्रीका क्लब, महाबीरप्रसाद गुप्ता, मनोहरलाल पचेरिवाल, बिनोदीलाल पचेरिवाल, देशबन्धु कागजी, श्रीमती पुष्पा गुप्ता, श्रीमतीशकुंतला पोद्दार इन दानदाताओं में विशेष उल्लेखनीय रही। श्रीहरि सत्संग समिति के 11 महिला सदस्यों का एक क्लब ने मिल कर श्री अशोक सिंघल की स्मृति में बन रहे सेवा सदन प्रोजेक्ट में १ रूम के निर्माण में सहयाग देकर समाज की महिलाओंके सन्मुख एक आदर्श रखा।
कवि सम्मेलन आये काव्य प्रेमियों को श्रीयुत लोढा जी की ओर से सभी को जलपान का पैकेट दिये गये। कार्यक्रम का संचालन श्री सुरेन्द्र विकल ने किया तथा मंत्री श्री राजकुमार सराफ ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी का आभार व्यक्त किया। More »




-: Special Advertisement :-