वनबंधु परिषद की महिला समिति द्वारा देश के विभिन्न आदिवासी इलाकों में 45 हजार एकल विद्यालय शिक्षा केंद्र स्थापित करेगी

manju lodha

आदिवासियों के जीवन के उत्थान एवं आदिवासी इलाकों के विकास को समर्पित अंतर्राष्ट्रीय संस्था वनबंधु परिषद की महिला समिति आनेवाले कुछ सालों में देश के विभिन्न आदिवासी इलाकों में आदिवासियों के लिए 45 हजार एकल विद्यालय शिक्षा केंद्र स्थापित करेगी। समिति द्वारा देश मे अब तक आदिवासी इलाकों में 55 हजार एकल विद्यालय शुरू किए जा चुके हैं। यह जानकारी वनबंधु परिषद की हाल ही में मुंबई में संपन्न अखिल भारतीय महिला सम्मेलन के दौरान संस्था की उपाध्यक्ष श्रीमती मंजू लोढ़ा ने दी। उन्होंने बताया कि इस सम्मेलन में देश भर से करीब 300 से भी ज्यादा महिलाएं आई थीं। श्रीमती लोढ़ा ने बताया कि ये एकल विद्यालय संस्था की महिलाएं अपनी छोटी छोटी बचत एवं व्यक्तिगत सहयोग से स्थापित कर रही है। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि इस सम्मेलन के बाद एकल विद्यालय स्थापना का काम कुछ और तेज किया जाएगा।
वन बंधु परिषद का अखिल भारतीय महिला सम्मेलन वानखेड़े स्ट्डियम स्थित गरवारे क्लब में हुआ। इस अधिवेशन के विभिन्न सत्रों में आदिवासियों के उत्थान एवं उनके शैक्षणिक विकास के लिए किए गए कार्यों की समीक्षा की गई। अखिल भारतीय महिला समिति की अध्यक्ष पुष्पा मुंदड़ा इस सम्मेलन में महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, दिल्ली, छत्तीसगढ़. कोलकाता, हरियाणा सहित देश के विभिन्न प्रदेशों से 33 चैप्टर्स की सदस्याएं आई थीं। कुंजुबेन भंसाली, रतनीदेवी काबरा, नमिता पांडेय, नयनतारा जैन, लेखा रूंगटा, छाया काबरा, उमा पचीसिया, एवं प्रेरणा बागड़ी के नेतृत्व में सभी महिला सदस्यों ने संस्था के नए कार्यक्रम शुरू करने पर विचार किया। इससे पहले अब तक शुरू किए गए 55 हजार सिक्षा केंद्रों के संचालन की समीक्षा की गई एवं शीघ्र ही शेष 45 हजार शिक्षा केंद्र शुरू करने के बारे में नई संभावनाओं पर विचार किया गया। वन बंधु परिषद की मुंबई की अध्यक्ष छाया काबरा एवं संयोजक उमा पचीसिया के नेतृत्व में यह आयोजन हो संपन्न हुआ। संस्था की उपाध्यक्ष श्रीमती मंजू लोढ़ा ने शिक्षा के आदिवासियों में शिक्षा के महत्व के प्रचार प्रसार की जरूरत बताते हुए उनके उत्थान के लिए एकल विद्यालय को सबसे त्वरित और उपयोगी बताया। इस दो दिवसीय अधिवेशन में नॉर्थ ईस्ट के प्रदेशों से भी कई महिला प्रतिनिधि आई थीं। सम्मेलन में आई प्रतिनिधियों के लिए नेहरू सेंटर में पार्थिव गोयल के विशेष संगीतमय कार्यक्रम का आयोजन रखा गया था।

नेहरू सेंटर मुम्बई में सीनियर पेंटींग कलाकार नितीन खिलारे की चित्रों की प्रदर्शनी का आयोजन

aakruti aakruti

सुप्रसिद्ध सीनियर पेंटींग कलाकार श्री नितीन खिलारे के चित्रों की प्रदर्शनी का आयोजन नेहरू सेंटर, वर्ली, मुम्बई में किया गया है। 28 फरवरी से 6 मार्च 2017 तक आयोजित इस प्रदर्शनी का उद्घाटन सुप्रसिद्ध समाजसेवी व खाबिया ग्रुप के चेअरमैन श्री किशोर खाबिया जैन, एक्लेम मेगा स्ट्रकचर के डायरेक्टर श्री महेन्द्र कलंत्री, वर्ल्ड मास मीडिया न्यूज के सी.एम.डी. श्री राजेन्द्र जाधव, सुप्रसिद्ध संगीतकार श्री मधूसुदन कुमार, नेहरू सेंटर के असिस्टेंट डायरेक्टर नीना रेगे, कोबाल्ट आर्ट के डायरेक्टर नीता पठारे, अरूण रफेल, कलाकार कंचन महंत, पुनम अग्रवाल आदि के हाथों दीप प्रज्जवलन कर अनेक गणमान्य लोगों के उपस्थिति में किया गया।
कार्यक्रम के संयोजक व आकृति आर्ट फाउंडेशन के संस्थापक श्री मनमोहन जयवाल ने बतलाया कि सीनियर कलाकार श्री नितीन खिलारे पिछले कई वर्षों से पेंटींग के क्षेत्र में सफलता के नये आयाम को छू रहे है। इनके कार्यों की सराहना करने वालों मे पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सुशील कुमार शिंदें व श्री शरद पवार, सुप्रसिद्ध संगीतकार गुलजार, गायक श्री गुलाम अली, सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन व धर्मेंद्र, लेखक श्री विश्वास पाटील सहित विविध क्षेत्र के अनेक गणमान्य लोग शामिल है। कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रमुख अतिथियों का स्वागत श्री नितीन खिलारे ने पुष्पगुच्छ देकर किया। इस अवसर पर समाजसेवा, कला, फिल्म व व्यवसाय जगत से जुड़े अनेक लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवायी तथा श्री नितीन खिलारे को उनकी कला के लिये उत्साहवर्धन किया। More »

साहित्य मेले में मंजू लोढ़ा की पुस्तक पर विशेष चर्चा सत्र ‘परमवीर – द वार डायरी’ को मोस्ट पॉवरफुल पुस्तक माना

manju lodha manju lodha

भारत में कला, संगीत और साहित्य के सबसे बड़े आयोजन ‘लिट ओ फेस्ट मुंबई-2017’ में जानी मानी लेखिका मंजू लोढ़ा की हाल ही में रिलीज पुस्तक ‘परमवीर – द वार डायरी’ पर विशेष चर्चा का आयोजन हुआ। ‘लिट ओ फेस्ट मुंबई-2017’ में वीर चक्र विजेता कर्नल ललित राय,गीतकार गुलजार, केदारनाथ सिंह, अमृता फडणवीस, अनूप जलोटा, सोनल मानसिंह, सोनू निगम, प्रिया दत्त, अलीसिया राऊत, गजेंद्र सिंह, अभय कुमार दुबे, रिचा बिष्ट राऊत,प्रतिष्ठा सिंह, किरण सोनी गुप्ता, उदय प्रकाश जैसे देश – विदेश के कई जाने माने कलाकारों, साहित्यकारों एवं संगीतमर्मज्ञों एवं प्रमुख लोगों ने हिस्सा लिया। ‘लिट ओ फेस्ट’ में श्रीमती लोढ़ा की पुस्तक ‘परमवीर – द वार डायरी’को मोस्ट पॉवरफुल बुक के रूप में प्रतिष्ठा मिली है।
भारतीय युद्ध एवं शहीदों के प्रति सम्मान के इतिहास पर लिखी श्रीमती लोढ़ा की पुस्तक ‘परमवीर – द वार डायरी’को इस आयोजन में विशेष रूप से सम्मिलित किया गया था।‘लिट ओ फेस्ट मुंबई-2017’ के ‘पेन एंड स्वॉर्ड’ यानी ‘कलम और तलवार’ सत्र में बोलते हुए श्रीमती लोढ़ा ने अपनी पुस्तक परमवीर के बारे में कहा कि यह पुस्तक देश के सवा सौ करोड़ लोगों को यह अहसास कराएगी कि सीमा पर तैनात शूरवीरो की बदौलत ही हम सुरक्षित जी रहे हैं। साथ ही नई पीढ़ी को हमारी सैन्य क्षमता और वीरों के सामर्थ्य का भी ज्ञान हो सके, इसके लिए यह पुस्तक लिखी। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत रूप से मेरे लिए यह मेरे मन के बहुत करीब की पुस्तक है।
मरीन ड्राइव स्थित ग्रांट मेडीकल जिमखाना ग्राउंड में यह दो दिवसीय प्रतिष्ठित आयोजन संपन्न हुआ। कला, साहित्य एवं संगीत के एक दशक पुराने ‘लिट ओ फेस्ट’ में हर साल दुनिया भर में रहनेवाले भारतीय कलाकार, साहित्यकार एवं संगीतज्ञ अपने विशेष अनुभवों को बांटने के लिए पहुंचते हैं। संस्कृति के सम्मान की महत्ता के मद्देनजर मुंबई में इस आयोजन का विशेष महत्व है। ‘पेन एंड स्वॉर्ड’ सत्र में मंजू लोढ़ा के अलावा मुकुल देवा, वीर चक्र विजेता कर्नल ललित रॉय एवं रचना बिष्ट एवं मेजर विक्रमजीत कंवरपाल ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

श्री साई मंदिर, मलाड पश्चिम में सरला गीता परिवार द्वारा महाशिवरात्री महोत्सव का भव्य आयोजन

kanbihari kanbihari

महाशिवरात्री पर्व के पावन अवसर पर श्री साई मंदिर, मलाड पश्चिम में सरला गीता परिवार द्वारा महाशिवरात्री महोत्सव का भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर संस्था की ओर से सुप्रसिद्ध समाजसेवी व अग्रबंधू सेवा समिति के ट्रस्टी श्री कानिहारी अग्रवाल सहित शहर के अनेक गममान्य व अतिप्रतिष्ठित व्यक्तियों को सपरिवार आमंत्रित किया गया। पार्थिव शिवलिंग रूद्राभिषेक एवं भजन संध्या के इस भव्य आयोजन में श्री कानबिहारी अग्रवाल अपनी धर्मपत्नी श्रीमती हंसा अग्रवाल के साथ उपस्थित हुये। वहाँ उनका स्वागत संस्था के पदाधिकारियों द्वारा किया गया तथा वह पार्थिव शिवलिंग रूद्राभिषेक में सहपत्नी भाग लिये।

अखिल भारतीय संतमत-सत्संग का 106वाँ वार्षिक महाअधिवेशन मुम्बई में समपन्न

sant_samagam sant_samagam

अखिल भारतीय संतमत-सत्संग का 106वाँ वार्षिक महाअधिवेशन 24 से 26 फरवरी 2017 को मुम्बई के घाटकोपर स्थित सौमया कॉलेज ग्राउंड में आयोजित किया गया। इस आयोजन में संतमत-सत्संग से जुड़े लगभग 300 से अधिक संतों भाग लिया। साथ देश-विदेश से हजारों की संख्या में भक्तों व शिष्यों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवायी।
कार्यक्रम के सहयोगी व संस्था के पैटर्न श्री उत्तम वी जैन ने बतलाया कि परमपूज्य संत सदगुरू महर्षि में हीं परमहंस महाराज द्वारा स्थापित इस अखिल भारतीय संतमत-सत्संग की वर्तमान में देश-विदेश में 5 हजार से अधिक आश्रम तथा 5 करोड़ से भी अधिक सदस्य है। वर्तमान आचार्य पूज्यपाद महर्षि हरिनंदन परमहंसजी महाराज के सानिध्य में देश भर में धार्मिक अस्मिता एवं संस्कृति के पुनरूत्थान तथा आत्म शांति, राष्ट्रशांति व विश्वशांति के लिये संस्था की ओर से विविध कार्यक्रमों को आयोजन किया जाता है।

'अल्योशा, अ ब्लेज़,लाइक अ शूटिंग स्टार' पुस्तक का अर्नब गोस्वामी द्वारा विमोचन

arnab_goswami

पत्रकार, न्यूज़ एंकर, रिपब्लिक टीवी के एमडी अर्नब गोस्वामी ने मुंबई के टाइटल वेव्स बुक स्टोर, बान्द्रा (पश्चिम), मुम्बई में 'अल्योशा, अ ब्लेज़, लाइक अ शूटिंग स्टार ' नामक पुस्तक का विमोचन किया। यह पुस्तक एक जीवनी है जिसके लेखक हैं - सीएमडीई अरुण कुमार एवीएसएम, एनएम ( सेवानिवृत्त)। दरअसल यह पुस्तक एक पिता की अपने बहादुर बेटे अल्योशा कुमार और बच्चों की शिक्षा के लिए काम कर रहे 'द ब्रेव न्यू वर्ल्ड फाउंडेशन ' के कामकाज के प्रति विनम्र श्रद्धांजलि है।
इस अवसर पर अर्नब गोस्वामी ने कहा कि हम रोजाना अनेक घिनौने अपराधों के बारे में सुनते रहते हैं। ऐसा इसलिए होता है कि कुछ लोग समझते हैं कि वे अपराध कर बच निकलेंगे। अल्योशा कुमार की बेंगलुरू में उस समय बेहद छोटी उम्र में मौत हो गयी, जब वह छेड़छाड़ की शिकार अपने दोस्त की मदद कर रहा था और उस पर चाकुओं से हमला किया गया। दोस्तों की नज़र में अल्योशा हरफनमौला एक साहसी और बहादुर लड़का होने के साथ हमेशा दूसरों का मददगार था। उसी की याद में उसके पिता कमोडोर अरुण कुमार ने ' द ब्रेव न्यू वर्ल्ड फाउंडेशन ' की स्थापना की। इसका मकसद समाज के कमजोर वर्ग के बच्चों की शैक्षिक मदद करना है।अल्योशा का जन्म रूस में हुआ था। अल्योशा का मतलब होता है: मानव का रक्षक। अल्योशा कम उम्र में ही बहादुरी के साथ एक ही समय में विभिन्न क्षेत्रों में अपनी अद्भुत प्रतिभा का परिचय दिया। उसकी चमक धूमकेतु जैसी थोड़ी देर ही सही चकाचौंध करने वाली थी। यह कहना है पिता अरुण कुमार का। पुस्तक को इंप्रिंट फ्रंटियर इंडिया द्वारा श्री जोसेफ पी चाको ने प्रकाशित किया है। प्रस्तावना देव लाहिरी ( लारेंस स्कूल,लवडेल के पूर्व हेडमास्टर) ने लिखी है। अर्नब ने बताया कि रिपब्लिक टीवी जल्द ही चालू हो जायेगा। अर्नब ने अरुण कुमार के फाउंडेशन की भावना को संस्थागत रूप देने का संकल्प जताया। कहा कि गलत के खिलाफ लड़ेंगे और अन्याय नहीं होने देने के लिए काम करेंगे।

कुलाबा विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के आमदार राज पुरोहितजी के नेतृत्व में चार उम्मीदवार ने ऐतिहासिक जीत हासिल की

aakash aakash

कुलाबा विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के आमदार राज पुरोहितजी के नेतृत्व में चार उम्मीदवार ने ऐतिहासिक जीत हासिल की। वार्ड क्रमांक २२१ में श्री आकाश राज पुरोहित, २२२ में श्रीमती रीटा मकवाना, २२६ में श्रीमती हर्षिता नार्वेकर और २२७ में श्री मकरंद नार्वेकर ने जीत हासिल कर कुलाबा विधानसभा में भा.ज.पा. का झंडा लहराया। मा. मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीसजी व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री रावसाहेब दानवेजी ने इन चारों विजयी उम्मीदवारों का अभिनन्दन किया। साथ ही साथ आमदार श्री राज पुरोहितजी का सत्कार किया।

वरिष्ठ लेखिका राजम नटराजम एवं सुमन सारस्वत को ‘ज्ञान गंगोत्री सम्मान’

manju lodha

घरेलू महिलाओं की एकमात्र साहित्यिक संस्था ‘ज्ञान गंगोत्री’ द्वारा जानी मानी लेखिका राजम नटराजम पिल्लई एवं सुमन सारस्वत को ज्ञान गंगोत्री सम्मान प्रदान किया गया। ‘ज्ञान गंगोत्री’ की संस्थापक अध्यक्ष एवं सुप्रसिद्ध लेखिका मंजू लोढ़ा ने यचह सम्मान प्रदान किया। ‘ज्ञान गंगोत्री’ के दसवें वार्षिकोत्सव पर आयोजित इस सम्मान समारोह में कविता, कहानी, साहित्य, लेखन एवं पत्रकारिता से जुड़ी करीब डेढ़ सौ से भी अधिक महिलाएं उपस्थित थीं। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार सुदर्शना द्विवेदी थीं।
लोढ़ा कोस्टियरा में आयोजित इस समारोह में ‘ज्ञान गंगोत्री’ की सदस्य रेखा दोशी एवं विमला जी को भी साहित्य सेवा के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर संस्था की सदस्य कवयित्रियों के अलावा मालती जैन और रेखा बब्बल ने भी कविता पाठ किया। समारोह में नृत्य, गीत और नोटबंदी पर नाटक व कविताएं आदि प्रस्तुत करके ‘ज्ञान गंगोत्री’ की गृहिणियों ने यह दिखा दिया कि घर की चार दिवारी से लेकर संसद तक उनकी समझ है। ‘ज्ञान गंगोत्री’ के बारे में मंजू लोढ़ा ने बताया कि गृहिणियों में काव्यप्रेम को परिष्कृत करने के लिये, उनके लेखन कौशल को विकसित करने के साथ-साथ हिंदी भाषा को प्रतिष्ठित करने की कोशिश स्वरूप उन्होंने इस संस्था की स्थापना की। जिसमें लगभग डेढ़ सौ गृहिणियां जुड़ी हुई हैं। जानी मानी कथाकार सुमन सारस्वत को देश-विदेश में चर्चित उनकी पुस्तक 'मादा' के लिए एवं तमिल भाषी हिंदी की वरिष्ठ लेखिका राजम नटराजन पिल्लई को उनके साहित्यिक योगदान के लिए सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार सुदर्शना द्विवेदी ने हिंदी भाषा की वर्तमान दिशा और दशा पर प्रकाश डाला। विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा भी इस समारोह में विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन सरोज कोठारी ने किया। ‘ज्ञान गंगोत्री’ की सभी सदस्याओं के जीवनसाथी एवं परिवारजन भी इस समारोह में विशेष रूप से भाग लेने आए थे।

अग्रबंधू सेवा समिति मुम्बई द्वारा 9वाँ वार्षिक महोत्सव, माता की भव्य चौकी एवं छप्पन भोग का आयोजन सम्पन्न

agrabandhu agrabandhu

माँ भगवती की असीम करूणा स्वरूप 9वें वार्षिक महोत्सव के रूप में अग्रबंधू सेवा समिति मुम्बई द्वारा माँ भगवती की भव्य चौकी वं छप्पन भोग महोत्सव का भव्य आयोजन निधीवन मलाड (पश्चिम) में सुसम्पन्न हुआ। इस अवसर पर मां का फुलों द्वारा अलौकिक श्रृंगार, विभिन्न झांकियाँ, अखंड ज्योति व विशाल छप्पनभोग के दर्शनों का लाभ हजारों मां भक्तों को प्राप्त हुआ। भगवती माता के अमृतमय भजनों भेंटों मनोहरी प्रस्तुति-प्रख्यात भजन गायक राजीव गाँधी एवं समूह द्वारा यादगार रही। अग्रबंधू सेवा समिति मुम्बई के अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, मंत्री उदेश अग्रवाल, कोषाध्यक्ष गोपालदास गोयल, ट्रस्टी व महोत्सव संयजोक अमरीशचंद अग्रवाल व ट्रस्टी मनमोहन गुप्ता एवं स्वागताध्यक्ष एवं ट्रस्टी श्री किशनचंद गुप्ता उपस्थित थे। वार्षिक महोत्सव का श्री गणेश श्रीधर गुप्ता ने सपत्नीक (उद्योगपति-समाजसेवी) द्वारा ज्योत प्रज्जवलन से हुआ। कार्यक्रम का संचालन ट्रस्टी कानबिहारी अग्रवाल, पुष्प-श्रृंगार सेवा हरिओम गौरीशंकर अग्रवाल (समाजसेवी-उद्योगपति), मंच व्यवस्था भगवती आर. अग्रवाल (ट्रस्टी-उद्योगपति), मंच सजावट सेवा दिनेश बी. अग्रवाल (चेअरमैन, जी. टीवी. इंफ्रास्ट्रक्चर लि.), महाप्रसाद सेवा किशोर प्रवेशकुमार अग्रवाल, पंडाल सेवा आलोक अग्रवाल (एम.डी. पी.के. हॉस्पिटलिटी प्रा.लि.) की ओर से थी। यह जानकारी प्रचार मीडिया प्रभारी अनिल आर. अग्रवाल (संयुक्त मंत्री) ने दी।
उक्त अवसर पर बतौर सम्माननीय अतिथि विद्या ठाकुर (राज्यमंत्री, महाराष्ट्र सरकार), राम जाजोदिया (उद्योगपति व समाजसेवी), रमनलाल अग्रवाल (चौधरी), देवकीनंदन जिंदल, आफाक खान (ज्योतिषाचार्य), सुनिल जैन (एम.डी., सुनिल गैस कम्पनी), विमल बाजोरिया (ट्रस्टी, तुलसी परिवार), अरूण साबू (अध्यक्ष, राणीसती प्रचार समिति, मलाड), सुरेन्द्र विकल (उपाध्यक्ष, ब.अ.सा.वि. सम्मेलन) उपस्थित थे। माताजी के महोत्सव में बतौर अतिथि जय प्रकाश ठाकुर (उपाध्यक्ष, भाजपा महा. प्रदेश), राजू खंडेलवाल (भजन सम्राट), नरेन्द्र खेतान (ट्रस्टी, साई मंदिर ट्रस्ट मलाड), राजेन्द्र पोरवाल कोटा, हर्षवर्धन अग्रवाल (अध्यक्ष, अग्रवाल ग्लोबल फाउंडेशन) और बतौर विशेष अतिथि शिव अग्रवाल (एम.डी., शुभम मोतीवाला), दिनेश अग्रवाल (अध्यक्ष, अग्रोहा विकास ट्रस्ट, क्षे.सं.5), राजकुमार अग्रवाल (चेअरमैन, कोलिस इंडिया), अशोक अग्रावाल (उद्योगपति-समाजसेवी, बोरीवली), बाबूलाल अग्रवाल (समाजसेवी), रतनलाल बरोलिया (अध्यक्ष, खाटू श्याम मंडल), राधेश्याम गोयनका, हरीश जालान विजय गुप्ता, जे. पी. सिंह, श्रवण जाजोदिया, बिहारीलाल गुप्ता, अनिल लडीवाला की समुपस्थिति थी। इसके अलावा सहयोगी महानुभावों में सूरजभान अग्रवाल (चेंबूर), सतीश अग्रवाल (चेंबूर), मथुराप्रसाद अग्रवाल (चेंबूर), बनवारीलाल अग्रवाल, सुमन अग्रवाल (दिल्ली), नरेन्द्र कुमार गोयल (भायंदर), अमरीश जैन, अशोक बी. अग्रवाल, सुरेशचंद अग्रवाल (कांदीवली), सुनिल पी. अग्रवाल, जितेन्द्र वासुदेव अग्रवाल, महेश मित्तल, विजय बी. अग्रवाल, रविशंकर अग्रवाल (चांदीवाले), सुरेशचंद मित्तल, सुनिल गुप्ता तथा अजय रमाशंकर अग्रवाल, विनय गोपीनाथ मिश्रा, अनुपम शर्मा की उपस्थिति उल्लेखनीय है। उक्त भव्य-दिव्य महोत्सव को सफल बनाने में अध्यक्षा श्रीमती शोभा बृजमोहन अग्रवाल व पूरी टीम एवं संस्था के अन्य पदाधिकारी, सदस्य, सदस्याओं का स्मरणीय योगदान रहा। विदित हो कि अग्रबंधू सेवा समिति, मुम्बई द्वारा वार्षिक महोत्सव हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी काफी प्रशंसनीय व प्रेरणाप्रद रहा। भगवती माता के हजारों भक्तजनों ने बहुआयामी आनंद उठाया।
अंत में ट्रस्टी मनमोहन गुप्ता ने सपत्नीक व परिवारजनों के साथ आरती सम्पन्न की तथा सभी लगभग 4 हजार भक्तों ने महाप्रसाद का लाभ लिया। साथ ही प्रस्थान करते समय सभी भक्तों के बीच छप्पन भोग प्रसाद का वितरण किया गया। समपूर्ण आयोजन की व्यवस्था में ट्रस्टी जगदीश खेमचंद गुप्ता, उपाध्यक्ष नरेश गुप्ता, अनिल पी. अग्रवाल, बृजमोहन अग्रवाल, अनूप बी. अग्रवाल, संयुक्त मंत्री रामप्रकाश मित्तल तथा सदस्यों में नरेन्द्र चेतराम गुप्ता, विनोद बी. अग्रवाल, अरूण अग्रवाल, प्रवीण अग्रवाल, राजेन्द्र आर. अग्रवाल, राजीव अग्रवाल, संदीप पी. अग्रवाल, राकेश एस. अग्रवाल (चांदीवाले), गोविंद एन. अग्रवाल, मनीष गोयल, शैलेष अग्रवाल, धीरेश अग्रवाल, उत्तम गुप्ता, दिनेश गुप्ता, जयेश अग्रवाल, विपीन एल. अग्रवाल, दिनेश प्रवेश अग्रवाल इत्यादि सज्जनों ने भरपूर सहयोग दिया। More »


उपन्यास पब्लिश होने से पहले ही “अमित खान” के उपन्यासों के राइट्स बिके

amit_khan

अमित खान आज किसी परिचय के मोहताज नहीं। हिंदी थ्रिलर उपन्यासों की दुनिया में वह एक बड़ा नाम है। उनके लिखे 100 से ज्यादा उपन्यास अभी तक प्रकाशित हो चुके है। इतना ही नहीं अब उनके उपन्यास बड़े प्रकाशन संस्थानों द्वारा अंग्रेजी और मराठी भाषा में भी प्रकाशित हो रहे हैं। वह बॉलीवुड में भी काफी सक्रिय हैं। उनके द्वारा लिखित कई हिंदी फिल्में और टी.वी. सीरियल अभी तक टेलीकास्ट हो चुके हैं। मराठी फिल्में भी वह कर रहे हैं। संजय लीला भंसाली प्रोडक्शन की “लाल इश्क“ रिलीज़ हो चुकी है, जो उन्ही की कहानी पर आधारित है और “मनमोहन देसाईं प्रोडक्शन” की फिफ्टी-फिफ्टी शीघ्र रिलीज़ होने वाली है। इतना ही नहीं- उन्होंने डायमंड कॉमिक्स भी बहुत लिखे है, जो हिंदी, अंग्रेजी, और बंगाली भाषा में प्रकाशित हुए। सबसे बड़ी बात कि अभी उनके २ उपन्यासों के फिल्म राइट्स २ प्रोडूसरस ने खरीदे हैं। वो उपन्यास, जो अभी प्रकाशित भी नहीं हुए।



-: Special Advertisement :-