Organization | Shri Hari Satsang Samiti, Mumbai

संक्षिप्त परिचय: श्रीहरि सत्संग समिति, मुम्बई की स्थापना 1998 ई. में हुआ। संस्था का उदेश्य देश के सुदूर वनांचलों, गांवों में संस्कार केन्द्र स्थापित कर वनवासियों में संस्कार शिक्षा द्वारा मानवीय गुणों का विकास करना, इनके सामाजिक, आर्थिक और बौद्धिक उन्नति के लिए प्रयत्न करना और उनमें आत्मविश्वास पैदा करना है। निरंतर संपर्क, विचार विमर्श और सलाह संस्कार द्वारा वनवासियों के जीवन स्तर में सुधार, व्यसन मुक्त करते हुए, शहरी और वनवासी समाज में परस्पर स्नेह पूर्ण संबंध कायम रखने के लिए पिछले कई वर्षो से यह संस्था कार्य कर रही है। देश के चार लाख गांवो में 9 करोड़ वनवासियों को श्रीहरि कथा और संस्कार शिक्षा के माध्यम से विकास की मुख्यधारा में शामिल करने तथा उन्हें स्वावलंबी और स्वभिमानी बनाने के लिए प्रयासरत यह संस्था आज मुम्बई के अग्रणी संस्थओं में एक है। मुम्बई में अपना अत्याधुनिक सुविधाओं से सज्जित कार्यालय के साथ ही समर्पित दस हजार से भी अधिक आजीवन एवं संरक्षक सदस्य इसकी विशेषताओं में चार चांद लगाती है। वर्तमान में समिति के अध्यक्ष, कार्यवाहक अध्यक्ष, महामंत्री के साथ इसके राष्ट्रीय संरक्षक अध्यक्ष का मार्गदर्शन में यह संस्था आगे बढ़ रही है।


श्रीहरि सत्संग समिति, मुम्बई द्वारा महानगर में आयोजित होनेवाले विविध कार्यक्रमों की चित्रित झलकियाँ